व्यंग्य: थूकने पर पाबंदी सरासर ज्यादती है

0
298

 

राम मोहन चौकसे

newsविश्व व्यापी महामारी कोरोना से निपटने के लिए देश मे युद्ध स्तर पर कोशिश जारी है।कई तरह की पाबंदियों के बाद अब सार्वजनिक स्थलों पर थूकने पर पाबंदी लगा दी गई है।थूकते हुए पाए जाने पर अब एक हजार रुपए का जुर्माना वसूल किया जाएगा।थूकने पर प्रतिबंध लगते ही पूरे देश में सबसे पहले और सबसे ज्यादा चिंता भोपाल में हुई।
भोपाल में बुधवारा से लेकर गिन्नौरी तलैया,इब्राहीमपुरा,इतवारा,मंगलवारा,जुमेराती गेट,लक्ष्मी टाकीज,घोड़ा नक्कास,भोपाल टाकीज,बड़ा बाग, शाहजहानाबाद,पुतलीघर,नया कबाड़खाना,काजी केम्प, टीला जमालपुरा, अट्टा सूजा खां, अजायबघर सहित दर्जनों मोहल्लों में सन्नाटा पसर गया।जहांगीराबाद की एक तंग गली में अखबार पढ़ते हुए मुन्ने फैलान ने जुम्मन को खबर बताई कि मियां अब थूकने पर हजार रुपये का जुर्माना लगेगा।खबर का जिक्र होते ही लॉक डाउन के बाद भी दो दर्जन लोग इक्कठे हो गए।

बिना बुलाई इस महफ़िल में एक ही मुद्दा था-थूकने पर पाबंदी।सब जोर-जोर से चिल्लाने लगे।यह सरासर ज्यादती है।सरकार जुल्म कर रही है।हम इंसाफ लेके रहेंगे। आवाज ज्यादा तेज होने पर कल्लन मियां खड़े हुए।जोर से चिल्लाए- चोप।उनके चोप कहते ही सुई पटक सन्नाटा छा गया। कल्लन मियां ने गला साफ करते हुए पास की दीवार पर पान की पिचकारी मारी।उन्होंने कहा-देखो मियां हमें याद नही आ रिया कि हम कबसे पान खा रिए हैं। मियां पीढियां गुजर गईं पान खाते और थूकते।कभी कोई दिक्कत नहीं हुई।किसी को एतराज नहीं हुआ।मजाल है, कोई रोक ले। आप अभी हमारे गरीबखाने चले जाइए।जर्दा,कत्था,सुपारी, पान, लोंग, इलायची, जाफरान से सजी पान की चुलिया मिल जाएगी।हमारी अम्मी,अब्बू,बेटे,बहुएं सब पान के शौकीन हैं। ये नरेन्दर मोदी की सरासर ज्यादती है।

सब एक सुर में चिल्लाए-हां,ज्यादती है।कल्लन मियां ने मुंह पर अंगुली रखकर सावधान किया।आहिस्ता बोलो जनाब,पुलिस डंडे मारकर घर के अंदर घुसेड़ देगी। धरी की धरी रह जायेगी बहस।पंचर की दुकान वाले गबरू ने कहा -चचा क्या किया जाए।कल्लन बोले सब अपनी अपनी राय बताओ।एक नौंजवान खड़ा हुआ और कहा,अभी हाल चलकर जिंसी वाली सड़क घेर लेते हैं।बन्ने खां ने कहा-इतने लट्ठ पड़ेंगे।एक साल बिस्तर से नहीं उठ पाओगे। राजा ने कहा अब आप ही बताइए-थूकना मना है या पान की पिचकारी फेंकना। सईद भोपाली ने कहा-मियां पान की पिचकारी फेंकने और थूकने में क्या फर्क है।मुन्ने फैलान ने कहा बलगम आने पर थूकना और चमन बहार, चटनी और जर्दे से बनी पान की गिलौरी की पीक को फेंकने की थूकना नहीं माना जायेगा।

बहुत देर से खामोश बैठे पीलू ढबरे ने सलाह दी कि वकील से मिल लेते है।सब फुर्सत में बैठे है।थूकने पर पाबंदी और जुर्माना के खिलाफ कोरट में केस लगाएं।सलीम ने कहा -मियां भोपाल के पानी मे वैसईं चूने की कमी है। हम तो पान के साथ चूना खाकर थूकेंगे नही तो क्या करेंगे। असलम पान वाले ने कहा मियां हमारे तो पान बिकना बंद हो जाएंगे। थूकने पर एक हजार का जुर्माना क्या नगर निगम का बाप देगा।

बंद गली में चल रही बहस का सिलसिला ही खत्म नहीं हो रहा था।गली के एक छोर से एक नौजवान गुजरा और दूर से मोबाइल पर फोटो खींचकर चला गया।थोड़ी देर बाद गली के बाहर बड़ी सड़क पर पुलिस की गाड़ी का सायरन सुनाई दिया।जैसे ही गली में पुलिस के पांच-छह सिपाही डंडा पटकते हुए घुसे। गली में जमी महफ़िल में भगदड़ मच गई।सभी घरों के अंदर घुस गए।थूकने पर पाबंदी को लेकर शुरू हुई बहस अधूरी रह गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here