भारत ने मैच जीता, अफगानिस्तान ने दिल

0
53

इंग्लैंड के साउथैंप्टन में खेला गया क्रिकेट विश्व कप प्रतियोगिता का 28वां मैच भारत ने अपने गेंदबाजों के बलबूते 11 रनों से जीत लिया है. इस मैच में भारत ने अफगानिस्तान के सामने जीत के लिए 225 रनों का लक्ष्य रखा था. लेकिन एक दिनी क्रिकेट के लिहाज से इस सामान्य समझे जाने वाले इस स्कोर का पीछा करते हुए अफगानिस्तान की पूरी टीम अपनी पारी के अंतिम ओवर में 213 रन बनाकर धराशायी हो गई. हालांकि भारत ने इस मैच में अफगान टीम पर जीत भले ही दर्ज की हो लेकिन भारतीय जीत की यह राह इतनी आसान भी नहीं रही. अफगानिस्तान के बल्लेबाजों ने संघर्षपूर्ण पारियां खेलीं और भारतीय गेंदबाजों को विकेट के लिए तरसाते रहे.

इस मैच के आखिरी दो ओवर काफी रोमांचक रहे. अफगानिस्तान को इन 12 गेंदों में 21 रन चाहिए थे और मोहम्मद नबी क्रीज पर थे. जसप्रीत बुमराह ने 49वें ओवर में सिर्फ पांच रन दिए. इसके बाद मोहम्मद शमी के आखिरी ओवर की पहली गेंद पर नबी ने चौका मार दिया. हालांकि अगली गेंद पर कोई रन नहीं बना और तीसरी गेंद पर वे हार्दिक पंड्या को कैच दे बैठे. उन्होंने अर्द्धशतकीय पारी खेलते हुए 55 गेंदों पर सबसे ज्यादा 52 रन बनाए. इसके बाद मैच तब पूरी तरह भारत के पक्ष में पलट गया जब आफताब आलम और मुजीब उर रहमान को शून्य पर आउट करके मोहम्मद शमी ने अपनी हैट्रिक और भारत की विश्व कप में 50वीं जीत पूरी की.

शमी ने इस मैच में कुल चार विकेट लिए. युजवेंद्र चहल और हार्दिक पंड्या के अलावा जसप्रीत बुमराह को भी दो-दो सफलताएं मिलीं. इसके अलावा एक ही ओवर में अफगानिस्तान के दो बल्लेबाजों को पैवेलियन की राह दिखाने के साथ ही किफायती गेंदबाजी के लिए जसप्रीत बुमराह को मैच के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी के पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया.

इस मैच में टॉस भारतीय कप्तान विराट कोहली ने जीता था और बैटिंग चुनी थी. इस फैसले के चलते क्रिकेट प्रशंसकों को भारत की तरफ से रनों की बरसात होने की उम्मीद भी थी लेकिन अफगान गेंदबाजों ने भारतीय बल्लेबाजों को अपने हाथ खोलने देने का कोई मौका नहीं दिया. ऐसे में विस्फोटक पारियों के लिए पहचाने जाने वाले भारतीय बल्लेबाज तेज और लंबी पारियां नहीं खेल पाए.

मैच में एक वक्त ऐसी स्थिति थी कि सात रनों के योग पर रोहित शर्मा अपना विकेट गंवा बैठे. उनके बाद केएल राहुल भी 15वें ओवर में आउट हो गए. तब भारतीय टीम का स्कोर 64 रन था.

विराट कोहली ने विजय शंकर के साथ मिलकर टीम को संकट से निकालने की कोशिश की. लेकिन 122 के योग पर शंकर भी कोहली का साथ छोड़ गए. उसके बाद 31वें ओवर में कोहली ने भी अपना विकेट गंवाकर पैवेलियन की राह पकड़ ली. महेंद्र सिंह धोनी और केदार जाधव ने भारतीय स्कोर को सम्मानजनक स्थिति तक पहुंचाने में मुख्य भूमिका निभाई. दूसरी तरफ विस्फोटक बल्लेबाजी के पहचाने जाने हार्दिक पंड्या आज कुछ खास नहीं करत पाए वहीं टीम के पुछल्ले बल्लेबाजों ने भी निराश ही किया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here